सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ऋषिकेश - भक्ति और रोमांच की नगरी

 ऋषिकेश

 

एक ऐसी जगह जिसे किसी परिचय की ज़रूरत नहीं है। सालों से देश-दुनिया भर के लोगों को आपनी तरफ़ आकर्षित करती हुई योग, ध्यान और भक्ति की नगरी। ऋषिकेश में हर उम्र के लोगों के लिए कुछ न कुछ है, बस ज़रूरत है वहाँ जाकर उसे महसूस करने की। 

शिव की जटाओं से निकली पावन पूज्यनीय गंगा किनारे बैठ कर योग, ध्यान करने के लिऐ एक सुन्दर स्थान। भक्तिभाव में डूबे  लोगों के लिए गंगा किनारे बने हुए सूंदर और भव्य मंदिर (शत्रुघ्न मंदिर, लक्ष्मण मंदिर ) अपनी तरफ आकर्षित करते है। 

ऋषिकेश को छोटी चारधाम (बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमनोत्री) की यात्रा का दरवाज़ा कहा जाता है, वहीं दूसरी तरफ साहसिक और पर्यटन स्थल (Adventure and tourists destinations) का दरवाज़ा भी कहा  जाता है, जहाँ आप चोपता, औली, हर्षिल, केदार कंठ, हर की दून जैसी अनेक अद्भुद जगहों का आनंद ले सकते हैं । 

River rafting, zip line, bungee jumping, flying fox, camping जैसी रोमांचक गतिविधियों (activities) का एक जगह होना ऋषिकेश की ख़ासियत है, जो सबको अपनी तरफ चुम्बक की तरह खींचती है। जंगल सफ़ारी के शौक़ीन राजाजी नैशनल पार्क में सफ़ारी का आनंद ले सकते हैं, जो ऋषिकेश से 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

 

सिर्फ ऋषिकेश ही क्यों ?

ज़िंदगी की भागदौड़ से कुछ पल सुकून के चाहिए तो ऋषिकेश एक अच्छी और कम खर्च वाली जगह है, जहाँ आसानी से पंहुचा जा सकता है। 2 से 3 दिन में ऋषिकेश को आप अच्छे से घूम सकते हैं। अगर आप पब्लिक ट्रांसपोर्ट इस्तेमाल करने के आदी नहीं है तो आप किराये पर मोटर साइकिल, स्कूटी इत्यादि  से भी ऋषिकेश घूमने का आनंद ले सकते हैं 

 

कैसे जाएँ

रेल मार्ग

ऋषिकेश रेलवे स्टेशन हरिद्वार, देहरादून से जुड़ा होने के साथ ही नई दिल्ली से भी जुड़ चुका है।  आप भारत के किसी भी कोने से दिल्ली-देहरादून होते हुए ऋषिकेश पहुँच सकते हैं।

हवाई मार्ग 

देहरादून हवाई अड्डा 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। अगर आप किसी अन्य देश से यात्रा कर रहे है तो केवल देहरादून, चंडीगढ़ या दिल्ली ही उतरे और यहाँ से आगे कार,टेक्सी, रेल से सकते हैं।

सड़क मार्ग

सड़क के ज़रिये ऋषिकेश दिल्ली, राजस्थान, हरियाणा, उत्तर प्रदेश जैसे बड़े बड़े राज्यों से सीधा पहुँचा जा सकता है। राष्ट्रीय राजमार्ग नंबर 58 के द्वारा ऋषिकेश आसानी से पहुँचा जा सकता है। 

 

समय

मॉनसून को छोड़कर कभी भी मौसम अपनी सुविधा अनुसार जा सकते हैं। मॉनसून मे भारी बारिश के कारण ऋषिकेश थोड़ा जोखिम भरा हो सकता हैं इसीलिए मॉनसून के महीने में जाने से बचें।

 

देखने के स्थल

1. नीलकंठ महादेव मंदिर



2. लक्ष्मण झूला



3. राम झूला



4. नीर झरना



5. त्रिवेणी घाट पर गंगा आरती




6. शिवानंद आश्रम
7. परमार्थ निकेतन आश्रम
8. कुंजापुरी देवी मंदिर
9. बीटल्स आश्रम (चौरासी कुटिया)

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मैक्सिको परंपरा, संस्कृति और आधुनिकता का संगम

मैक्सिको दक्षिण अमेरिका महाद्वीप में स्थित एक देश है, जिसकी राजधानी मैक्सिको सिटी है। स्पार्क्स (Sparks), एटलिक्सको (Atlixco), कैम्पेचे (Campeche), युकाटन (Yucatan), क्विंटाना रू (Quintana Roo) मैक्सिको के मुख्य राज्य हैं। यहाँ और भी राज्य है, लेकिन यह ऐसे राज्य हैं जहां आप कुछ सुखद दिन बिता सकते हैं क्योंकि यहाँ इतनी हिंसा नहीं है, यह सब शांत राज्य हैं।  मैक्सिको में लगभग 112 मिलियन लोग रहते हैं। उनमें से ज्यादातर मेस्टिज़ोस हैं, जो स्वदेशी लोगों और ज्यादातर स्पेनिश आप्रवासियों के मिश्रण से उत्पन्न हुए थे। लगभग एक तिहाई आबादी स्वदेशी लोगों की है। मैक्सिको की संस्कृति विविध है जिसमें भारतीय और यूरोपीय देशों की संस्कृति की झलक मिलती है। मैक्सिको सिटी 20 मिलियन से अधिक निवासियों के साथ दुनिया के सबसे बड़े महानगरीय क्षेत्रों में से एक है। अन्य प्रमुख शहर ग्वादालाहारा (Guadalajara), मॉन्टेरी (Monterrey) और वेराक्रूज़ (Heroica Veracruz) हैं।  El Castillo, Chichen Itza मैक्सिको का एक लंबा इतिहास रहा है, जिसके निशान आज भी कई जगहों पर दिखाई देते हैं। ओल्मेक्स (Olmecs), माया और एज़्टेक की उच्च

वाइल्ड लाइफ सेंचुरी इन इंडिया

भारत वन्यजीवों की दुर्लभ प्रजातियों के लिए जाना जाता है और जब से वनों की कटाई शुरू हुई है। इन अद्भुत जानवरों के घर खत्म हो गए हैं। इससे इन लुप्तप्राय प्रजातियों को संरक्षित करने के लिए वन्यजीव अभयारण्यों का विकास हुआ। भारत में सर्वश्रेष्ठ वन्यजीव अभयारण्यों की सूची हैं: